कोरोना काल में लाखों लोगों की चेतना चली गई। कोरोना के नाम पर जो टीके लगा रहे थे जिससे कुछ लोग मर जाते थे। लॉकडाउन के दौरान अगर हम डॉक्टर के पास जाते थे तो डॉक्टर इधर-उधर रहते थे और सब कुछ गिनते थे और भाग जाते थे. बुखार या खांसी होने पर भी कुछ लोग नहीं बचे। डॉक्टर के पास जाकर उन्हें दिखाने के बाद भले ही कोई और बीमारी हो कोरोना ही समझा जाता था। भारत सरकार के कारण ही लाखों लोग इस परीक्षा से गुजरे हैं। आज, भारत सरकार ने दवाएं प्रदान की हैं, यदि सरकारी अस्पताल जाते हैं स्थानीय स्तर पर दवाएं उपलब्ध हैं, खांसी-जुकाम की दवाएं बाहर से लाना पड़ता है, सरकार का कर्तव्य है कि अगर सरकार में मेडिकल चेक-अप हो तो सरकार को डॉक्टर की दवा भी लेनी चाहिए।

Transcript Unavailable.

Transcript Unavailable.

बेलखरनाथ ब्लॉक की एक महिला हुई कोरोनावायरस पॉजिटिव

बेलखरनाथ ब्लॉक की एक महिला हुई कोरोनावायरस पॉजिटिव

Transcript Unavailable.

ज़िला अस्पताल में इलाज कराने आई गर्भवती महिला जॉच में मिली कोरोना पॉजिटिव भेजा जॉच रिपोर्ट में

Transcript Unavailable.

Transcript Unavailable.

Transcript Unavailable.