Transcript Unavailable.

Transcript Unavailable.

Transcript Unavailable.

दिल्ली एनसीआर श्रमिक वाणी के माध्यम से रीना परवीन की बातचीत बबीता से हुई बबीता बताती हैं ईएसआई कार्ड बनने के बाद भी हमें ईएसआई कार्ड से दवाई नहीं मिलती थी एक-दो गोलियां देकर चला कर दिया जाता था एक सप्ताह पहले हमने श्रमिक वाणी पर अपना इंटरव्यू दिया था इंटरव्यू देने से इतना फायदा हुआ कि आज सुबह एचआर वह फैक्ट्री मैनेजर दोनों ही हमारे पास आए और उन्होंने कहा कि आप ईएसआई कार्ड रिन्यू करवा कर और आपको दवाई मिलने लगेगी अब हमारी कंप्लेंट आप नहीं करेगा मैं श्रमिक वाणी का शुक्रिया अदा करती हूं कि उन्होंने हमारा इतना बड़ा काम कराया खबर को हमने लोकल व्हाट्सएप ग्रुप फेसबुक कंपनी के एचआर वे मैनेजर को खबर शेर की थी खबर का बड़ा असर हुआ है

दिल्ली एनसीआर से रीना परवीन ने श्रमिक वाणी के माध्यम से दिनांक 12-02-24 को बताया कि श्रमिक वाणी पर दिनांक 05-02-24 को ख़बर प्रसारित की थी। जिसमे उन्होंने स्थानीय निवासी शाहबाज से पीएफ और ईएसआई कार्ड से सम्बन्धित बातचीत की थी। शाहबाज ने बताया था कि वे प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में काम करते हैं जहाँ उन्हें दो साल से पीएफ नहीं मिल रहा था। जिस कारण सारे वर्कर बहुत ज्यादा परेशान थे। इस खबर को रीना परवीन द्वारा कंपनी मैनेजर और कम्पनी के एचआर व लोकल व्हाट्सएप ग्रुप फेसबुक को फॉरवर्ड कर साझा की गयी थी जिसके बाद एचआर ने समस्या को संज्ञान में लेकर सभी श्रमिकों को अगले महीने से पीएफ काटने और ईएसआई कार्ड की भी सुविधा प्रदान कराने की बात कही।इस कार्य हेतु शाहबाज श्रमिक वाणी का शुक्रिया अदा कर रहे हैं।

Transcript Unavailable.

Transcript Unavailable.

Transcript Unavailable.

Transcript Unavailable.

दिल्ली एनसीआर श्रमिक वाणी के माध्यम से रीना परवीन की बातचीत सोनू से हुई सोनू बताते हैं मैं ए एस गोल्ड प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में काम करता हूं हमारी कंपनी में प्लास्टिक की प्लेट बनती हैं पीएफ तो काटता है और ईएसआई कार्ड भी बना हुआ है मगर इस कार्ड होने की बावजूद हमें मेडिकल सुविधा नहीं मिलती है हमें प्राइवेट डॉक्टर या गवर्नमेंट अस्पताल में ही अपना और अपने परिवार का इलाज करना पड़ता था बीते मंगलवार को श्रमिक वाणी पर अपनी हमने बात रिकॉर्ड कराई थी और उसमें अपनी पूरी कहानी बताई थी अब उसे खबर को हमारे कंपनी मालिक वह एचआर को खबर शेर की थी यह मालूम नहीं किसने की थी हमें तो मालूम चला हमारे एचआर से के हमारी कंपनी की कोई मीडिया में खबरें दे रहा है और यह लोग आप गलत कर रहे हैं आपको पीएफ मिलता है ईएसआई कार्ड में भी दवाई मिलने लगेगी अब आप हमारी कोई भी कंप्लेंट नहीं करेगा जब हमें पता लगा कि एचआर से क्या हमारी खबर चल रही है मैं श्रमिक वाणी का शुक्र गुजार हूं कि उन्होंने बहुत ही अच्छा काम किया है अब हमारा परिवार का फ्री में इलाज हो सकेगा 6 फरवरी 2024 को खबर को हमने लोकल व्हाट्सएप ग्रुप फेसबुक कंपनी के मालिक और एचआर को खबर शेर की थी