कैंसर के प्रति जागरूकता एवं बचाव ही सबसे बेहतर इलाज है। आइए, विश्व कैंसर दिवस पर हम संकल्प करें कि कैंसर के निदान, गुणवत्तापूर्ण उपचार, रोगियों के पुनर्वास और स्वास्थ्य प्रणाली को मजबूत बनाएंगें।इस खबर को सुनने के लिए ऑडियो पर क्लिक करें

Transcript Unavailable.

लॉक डाउन की अफवाह से लोग परेशान

Transcript Unavailable.

किशोर किशोरी स्वास्थ्य कार्यक्रम के प्रखंड समन्वयक अजित कुमार ने मोबाइल वाणी पर रखी अपनी बात

बिहार राज्य के जिला जमुई के गिद्धौर प्रखंड से कृशबिहारी मोबाइल वाणी के माध्यम से कह रहे है कि बदलते मौसम का प्रभाव मनुष्य जानवर खेती पर पड़ता है। आगे कह रहे है कि बदलते मौसम के कारण कई सारे लोगों के तबियत खराब हो रहे है जाइए सर्दी ज़ुकाम आदि। बता रहे है कि बारिश कम होने की वजह से बहुत कम लोगों ने धान की खेती किया और जिसने भी किया उनकी उपज उतनी अच्छी नहीं हुई। धान की खेती कम होनेके कारण मवेशियों को चारा भी सही से नहीं मिल पा रही है जिस वजह से किसानों को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा हैं

बिहार राज्य के जमुई जिला के सिकंदरा प्रखंड से मोबाइल वाणी संवाददाता योगेंद्र प्रसाद यादव ने पुरुषोत्तम कुमार से साक्षात्कार लिया जिसमें उन्होंने बताया की मौसम परिवर्तन से लोगों के साथ-साथ फसल को भी काफी नुकसान पहुंची है यहां के किसान का कहना है कि मौसम के अनुकूल वर्षा नहीं होने से फसल भी सही से नहीं हो पाई है एक तो समय पर वर्षा नहीं हुआ तो सही से धान की बुवाई नहीं हो पाई वही रवि फसल की बात किया जाए तो रवि फसल भी समय पर अभी तक खेतों में बुवाई नहीं की गई है जिससे किसान को काफी नुकसान झेलना पड़ रहा है। विस्तृत जानकारी के लिए ऑडियो पर क्लिक करें।

Transcript Unavailable.

बिहार राज्य के जमुई जिला के सिकंदरा प्रखंड से मोबाइल वाणी संवाददाता अमित कुमार सविता ने बिपिन कुमार से साक्षात्कार लिया जिसमें उन्होंने बताया की मौसम परिवर्तन से सर्दी ख़ासी हो रहा है। इससे फसल पर भी प्रभाव पड़ रहा है। खेती को कीड़े बर्बाद कर दे रहे हैं। इस खबर को सुनने के लिए ऑडियो पर क्लिक करें।

बिहार राज्य के जमुई जिला से मोबाइल वाणी संवाददाता अमित कुमार सविता ने पूर्व मुखिया से साक्षात्कार लिया जिसमें उन्होंने बताया की मौसम में बदलाव जब होता है तो हमें उस समय ज्यादा सतर्क रहना चाहिए।इसके साथ ही खान-पान का भी विशेष ख्याल रखना चाहिए।इस वर्ष पानी की कम होने के कारण जमीन में नमी की कमी रही। जिससे फसलों में कीड़े का प्रकोप ज्यादा देखने को मिला।