बिहार में भारतीय जनता पार्टी की लंबे समय तक पहचान रहे दिग्गज नेता सुशील कुमार मोदी नहीं रहे। बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री और राज्यसभा के पूर्व सांसद श्री मोदी का सोमवार की रात दिल्ली में निधन हो गया। वे कैंसर से पीड़ित थे। दिल्ली स्थित एम्स में चिकित्सा के दौरान उन्होंने अंतिम सांस ली।बिहार की राजनीति के पुरोधा सुशील कुमार मोदी अपने कैंसर की सूचना देने के 40 दिनों बाद ही रुखसत हो गए। बिहार में भारतीय जनता पार्टी की लंबे समय तक पहचान रहे दिग्गज नेता सुशील कुमार मोदी को कैंसर ने लील लिया। बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री और राज्यसभा के पूर्व सांसद श्री मोदी का सोमवार की रात दिल्ली में निधन हो गया। पिछले महीने की तीन तारीख को उन्होंने कैंसर होने की जानकारी देते हुए सक्रिय राजनीति से संन्यास की घोषणा की थी। पूर्व उपमुख्यंत्री सुशील कुमार मोदी गले के कैंसर से पीड़ित थे। दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में उनका इलाज चल रहा था। सुशील कुमार मोदी ने 03 अप्रैल को सार्वजनिक जीवन के लिए अंतिम संदेश दिया था। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा- "पिछले छह माह से कैंसर से संघर्ष कर रहा हूं। अब लगा कि लोगों को बताने का समय आ गया है। लोकसभा चुनाव में कुछ कर नहीं पाऊंगा। प्रधानमंत्री को सब कुछ बता दिया है। देश , बिहार और पार्टी का सदा आभार और सदैव समर्पित।" यह लिखने के बाद जब सुशील कुमार मोदी बिहार आए तो एयरपोर्ट पर उनकी हालत देखते ही समर्थकों को झटका लगा था। उनका शरीर अचानक गिर गया था। इसके बाद उनके आवास पर भाजपा के कई दिग्गज मिलने के लिए पहुंचे तो परिजनों ने उनकी तस्वीर लेने से मना कर दिया था।अंकित करने वाली बात है कि सुशील मोदी , नीतीश कुमार और लालू प्रसाद यादव जेपी आंदोलन के बाद उभरे त्रिमूर्ति के रूप में जाने जाते थे। श्री मोदी शुरुआत से ही राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से जुड़े रहे। 1971 में सुशील मोदी ने छात्र राजनीति से राजनीतिक कैरियर की शुरुआत की थी। इसके बाद युवा नेता के रूप में इनकी पहचान विश्वविद्यालय से होते हुए राज्य की राजनीति तक पहुंची। साल 1990 में सुशील ने विधानसभा चुनाव लड़ा और जीतकर विधायक बने। इसके बाद बिहार की राजनीति में उनका कद बढ़ता ही गया। उन्होंने बिहार के उप मुख्यमंत्री पद को सुशोभित किया।विस्तार पूर्वक जानकारी के लिए क्लिक करें ऑडियो पर और सुनें पूरी खबर।

बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम वह भाजपा के कद्दावर नेता सुशील कुमार मोदी का निधन हो गया वे लंबे समय से कैंसर की बीमारी से जूझ रहे थे। उन्होंने दिल्ली के एम्स में अंतिम सांस ली। सुशील कुमार मोदी का जन्म 1952 में पटना में हुआ था। उन्होंने 72 साल की उम्र में अंतिम सांस ली उनके निधन से राजनीतिक गलियारे में शोक की लहर दौड़ पड़ी है। विस्तार पूर्वक जानकारी के लिए क्लिक करें ऑडियो पर और सुनें पूरी खबर।

सिकन्दरा प्रखंड भूल्लो पंचायत के धनिमातरी गांव में परिवार विकास/चाइल्ड फण्ड इन्टरनेशनल के तत्वावधान में बाल विवाह और बाल मजदूरी रोकथाम एवं उसमें कमी लाने हेतु जागरूकता रैली का आयोजन किया गया। समन्वयक अभिषेक कुमार ने बताया कि बाल विवाह और बाल मजदूरी बच्चों के लिए अभिशाप है। यह कानूनी अपराध भी है। बच्चों के सुरक्षा हेतु सरकार की ओर से बहुत से कानून बनाए गए हैं।आज के बच्चे कल के भविष्य हैं। बच्चों के भविष्य को सजाना संवारना माता पिता के अलावे समुदाय के जागरूक लोग एवं शिक्षक की भूमिका अहम है।बाल विवाह से जच्चा-बच्चा दोनों को जान का खतरा बना रहता है। क्योंकि कम उम्र में शरीर पूर्णरूपेण तैयार नहीं रहता है मां बनने के लायक। बाल मजदूरी से भी बच्चों का विकास रुक जाता है ‌।शरीर कमजोर हो जाता है असमय पारिवारिक बोझ लद जाता है। जिसे वह सहन नहीं कर पाता है।बाल विवाह और बाल मजदूरी से बच्चों पर पड़ने वाला प्रभाव की विस्तृत जानकारी के साथ रैली पूरे गांव का भ्रमण कर स्लोगन के माध्यम से ग्रामीणों को जागरूक किया गया। विस्तार पूर्वक जानकारी के लिए क्लिक करें ऑडियो पर और सुनें पूरी खबर।

एक जून को देवघर एयरपोर्ट दक्षिण भारत से सीधा जुड़ जाएगा। देवघर से बेंगलुरु की सीधी फ्लाइट ने चेन्नई को जोड़ दिया है। एक जून को पहली कॉमर्शियल फ्लाइट दिन के 12:40 बजे पर देवघर एयरपोर्ट पर लैंड करेगी। संयोग देखिए उस दिन देवघर में मतदान होगा। अब कोई भी नौजवान जो दक्षिण भारत के किसी शहर में अथवा बेंगलुरु में नौकरी कर रहे हैं और यहां के वोटर हैं तो देवघर आकर वोट कर सकते हैं। देवघर से बेंगलुरु जाने के बाद वहां से दक्षिण भारत की विमान सेवा की कनेक्टिंग फ्लाइट है। यहां तक कि विदेश जाने के लिए भी सीधी विमान सेवा है। मालदीव , बाली , थाईलैंड के फुकेट , पोर्ट ब्लेयर आदि शहर जा सकते हैं। अभी देवघर से विदेश जाने के लिए कनेक्टिंग फ्लाइट वाया दिल्ली थी। बेंगलुरु जाने वाले कोलकाता जाते थे और वहां से यह सुविधा ले रहे थे। एक जून से उनकी यह असुविधा दूर हो जाएगी। इंडिगो के सूत्रों की मानें तो देवघर से बेंगलुरु का किराया साढ़े छह हजार होगा। देवघर एयरपोर्ट से दिल्ली के बाद यह दूसरी कॉमर्शियल सर्विस हो जाएगी। एयर बस 186 सीट की होगी। सप्ताह में यह तीन दिन यानी मंगलवार , गुरुवार और शनिवार को उड़ेगी।विस्तार पूर्वक जानकारी के लिए क्लिक करें ऑडियो पर और सुनें पूरी खबर।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुनाव प्रचार में पहली बार बिहार में रात्रि विश्राम करेंगे और करीब 18 से 20 घंटे तक बिहार में रहेंगे।12 मई को प्रधानमंत्री पटना में रोड शो करने वाले हैं। पटना में लोकसभा की दो सीट है। पटना साहिब से रविशंकर प्रसाद और पाटलिपुत्र से राम कृपाल यादव बीजेपी उम्मीदवार हैं।पटना साहिब में रविशंकर प्रसाद का मुकाबला कांग्रेस के अविजित अंशुल से है जो मीरा कुमार के बेटे हैं।पाटलिपुत्र में राम कृपाल के सामने तीसरी बार मीसा भारती हैं। पटना में रोड शो के बाद मोदी रात्रि विश्राम राजभवन में करेंगे।अगले दिन मोदी की तीन सभाएं है। छपरा में राजीव प्रताप रूडी के लिए, जहां लालू यादव की बेटी रोहिणी राजद उम्मीदवार हैं। दूसरी सभा हाजीपुर में होगी जहां से चिराग पासवान एलजेपी उम्मीदवार हैं। तीसरी सभा मुजफ्फरपुर के पताही हवाई अड्डे पर होगी। यहां से बीजेपी के राज भूषण चौधरी उम्मीदवार हैं, सामने कांग्रेस से सांसद अजय निषाद उम्मीदवार हैं ।सांसद अजय निषाद पिछली बार राजभूषण चौधरी को ‌भारी‌ मत से हराया था।‌24 घंटे में जिन चारों जगह मोदी का कार्यक्रम है वो महज 70 किमी के अंदर है। मतलब सत्तर किलोमीटर के रेंज में मोदी के 4 कार्यक्रम 24 घंटे के भीतर होने हैं।विस्तार पूर्वक जानकारी के लिए क्लिक करें ऑडियो पर और सुनें पूरी खबर।

बिहार में 24 अप्रैल से लेकर 29 अप्रैल तक भीषण लू व हीट वेव चलने की संभावना है

लोकतंत्र का महापर्व जमुई संसदीय क्षेत्र में उल्लास के साथ शांतिपूर्ण वातावरण में संपन्न हो गया  | चिलचिलाती धूप तपिश भरी गर्मी के बावजूद मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग जमकर किया और लोकतंत्र में अपनी भागीदारी सुनिश्चित कर देश के नागरिक होने के कर्तव्य का निर्वहन किया|

आई रजनी कुमार सिंह मोबाइल वाणी दोपहर 1 बजे तक प्राप्त मतदान प्रतिशत आंकड़ों के अनुसार, जम्मू विधानसभा क्षेत्र के शिकंदरा विधानसभा क्षेत्र में इकतीस अंक चार, झाझा विधानसभा क्षेत्र में तैंतीस अंक सात, जम्मू विधानसभा क्षेत्र में अड़तीस अंक दस।

Transcript Unavailable.

विस्तार पूर्वक जानकारी के लिए क्लिक करें ऑडियो पर और सुनें पूरी खबर।