महाराष्ट्र के जिला नागपुर से आदर्श श्रमिक वाणी के माध्यम से बता रहे हैं कि आज का दिन मजदूरों के नाम पर है, लेकिन मजदूरों की स्थिति को देखते हुए देश की प्रगति और देश की सत्तारूढ़ सरकार यही बता रही है। यह श्रम दिवस उन श्रमिकों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है जो वर्तमान में अपने किसी न किसी कार्य में लगे हुए हैं, जो श्रमिकों की प्रगति को कमजोर करने की कोशिश कर रहे हैं। जिस तरह से कुछ मजदूरों ने यहां अपनी विचारधारा के माध्यम से पुराने आंदोलन को आगे बढ़ाने की कोशिश की है मजदूर वे श्रमिक हैं जिनकी प्रगति के लिए इस देश में एक ओर देश की राज्य सरकार या सरकार को कमजोर करने का प्रयास किया जा रहा है, तो दूसरी ओर श्रमिकों के लिए बड़े-बड़े चुनाव हैं। समय पर दावे, वादे, लेकिन ये निर्णय मजदूरों को अधिकांश नौकरियां प्रदान करने में विफल रहे हैं। साथियों, मजदूर भी हैं, इसलिए देश में बड़ी-बड़ी इमारतें हैं। देश में बहुत काम है, देश का विकास है, लेकिन जो प्रगति मजदूरों के नाम पर है, जो कर्तव्य है, जो काम है, जो रोजगार है, जो कुछ भी मजदूरों के नाम पर है, जो सरकार यहां शासन करती है, उसे अपना नाम मिला है। यह सब कर रहा है और यह सब विकास को व्यक्त करने की कोशिश कर रहा है, लेकिन मजदूरों के बिना बड़े घर नहीं बन सकते हैं, बड़ी इमारतें नहीं बन सकती हैं, बड़ी इमारतें नहीं बन सकती हैं, लेकिन आप जिन घरों में रह रहे हैं, वे अक्सर मजदूरों के नाम पर होने चाहिए।

मध्यप्रदेश राज्य से हमारे एक श्रोता श्रमिक वाणी के माध्यम से सभी श्रोताओं को हार्दिक शुभकामनाएँ दे रहे हैं कि

Transcript Unavailable.

उत्तरप्रदेश राज्य के उन्नाव जिला से राम करण श्रमिक वाणी के माध्यम से सभी श्रोताओं को श्रम दिवस पर बधाई व्यक्त कर रहे हैं। लाखों बलिदान देने के बाद मजदूर अपनी बात कहीं भी रख सकता है, मजदूरों को खुद आवाज उठानी होगी, तभी आपको अधिकार मिलेंगे। हम सभी इस दिन को याद करते हैं क्योंकि हमारे लाखों लोगों ने इन अधिकारों के लिए लड़ाई लड़ी थी। यह एक बड़ी जीत थी, अमेरिका में एक संघर्ष था, लोगों ने गोलियां चलाईं, इतने लोग शहीद हुए, लेकिन इस शहादत को हम याद रखेंगे और वे जहां भी होंगे। अपनी आवाज उठाएं, अपने मन की बात कहें, अपने विचार कहें, तभी हम उन अधिकारों को प्राप्त कर पाएंगे जिन्हें लोगों ने सदियों से संघर्ष किया है। कंपनी के मालिकों को भी श्रम दिवस मनाना चाहिए और अपने सभी कर्मचारियों को खाना खिलाना चाहिए और उनका स्वागत करना चाहिए, चाहे वे कोई भी हों।

अगर इस जहां में मजदूरों का नामोंनिशां न होता, फिर न होता हवामहल और न ही ताजमहल होता!! नमस्कार /आदाब दोस्तों,आज 1 मई को विश्व अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस या मई दिवस मना रहा है।यह दिन श्रमिक वर्ग के संघर्षों और विजयों से भरा एक समृद्ध और यादगार इतिहास है। साथियों,देश और दुनियाँ के विकास में मजदूर भाई-बहनों का योगदान सराहनीय है।हम मजदूर भाई-बहनों के जज्बे को सलाम करते हैं और उनके सुखमय जीवन की कामना करते हैं। मोबाइल वाणी परिवार की तरफ से मजदूर दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं !

Transcript Unavailable.

Transcript Unavailable.

दिल्ली के मानेसर से शंकर पाल मोबाइल वाणी के माध्यम से बता रहे है की कैसे श्रमिकों के छुट्टी में जानके से कंपनी खतरे में है

दिल्ली के मानेसर से शंकर पाल मोबाइल वाणी के माध्यम से बता रहे है की कैसे जानकारी के आभाव में श्रमिक अपने अधिकारों से वंचित रह जाते है।

महिलाओं की लगातार बढ़ती हिस्सेदारी और उसके सहारे में परिवारों के आर्थिक हालात सुधारने की तमाम कहानियां हैं जो अलग-अलग संस्थानों में लिखी गई हैं, अब समय की मांग है कि महिलाओं को इस योजना से जोड़ने के लिए इसमें नए कामों को शामिल किया जाए जिससे की ज्यादातर महिलाएं इसका लाभ ले सकें। दोस्तों आपको क्या लगता है कि मनरेगा के जरिए महिलाओँ के जीवन में क्या बदलाव आए हैं। क्या आपको भी लगता है कि और अधिक महिलाओं को इस योजना से जोड़ा जाना चाहिए ?