प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को धनबाद में 35 हजार 700 करोड़ की योजनाओं का उद्घाटन शिलान्यास किया। इनमें हिंदुस्तान उर्वरक और रसायन लिमिटेड कारखाना सिंदरी मोहनपुर हंसडीहा नयी रेललाइन, देवघर डिब्रूगढ़ ट्रेन टोरी शिवपुर बिरादरी रेल लाइन और एनटीपीसी एस एसटीपी चतरा समेत अन्य योजनाएं शामिल हैं। इस दौरान उन्होंने नई ट्रेनों को वर्चुअली हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। प्रधानमंत्री ने धनबाद जिले ‌के सिंदरी में हर्ल उर्वरक संयंत्र का लोकार्पण करने के बाद कहा कि मैंने वर्ष 2018 में बंद पड़े इस खाद्य कारखाने को चालू करने का संकल्प लिया था। मैंने आपसे कहा था कि इस कारखाने को चालू करवाऊंगा ।आज इसका लोकार्पण हुआ है। ये मोदी की गारंटी थी और आज यह गारंटी पूरी हुई मोदी ने हर्ल के सीसीआर का निरीक्षण करने के बाद प्लांट में काम करने वाले 47 मजदूरों से मुलाकात की और उनसे बातचीत की। पीएम मोदी ने कहा कि आज झारखंड को 35 हजार करोड रुपए से अधिक की योजनाओं का उपहार मिला है । मैंने अपने किसान भाइयों को आदिवासी समाज के लोगों को और झारखंड की जनता को इन योजनाओं के लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूं । उन्होंने कहा कि इससे न सिर्फ विदेशी मुद्रा की बचत होगी, बल्कि रोजगार के हजारों नए अवसरों की भी शुरुआत हुई है। प्रधानमंत्री ने कहा कि वर्तमान में 360 लाख मीट्रिक टन यूरिया का उत्पादन हो रहा है। इससे किसान आत्मनिर्भर बन रहे हैं। वर्ष 2014 में जब मैं सरकार में आया,तो उस समय 225 लाख मीट्रिक टन यूरिया का भारत में उत्पादन होता था। उन्होंने कहा कि युरीया का आयात विदेश से करना पड़ता था, जिससे देश को आर्थिक नुकसान होता था पिछले 10 वर्षों में रामगुंडम गोरखपुर भौजी खाद कारखाने की शुरुआत हुई आज इसमें सिंदरी का नाम जुड़ गया एक शेडेड शहर में तालचेर में खाद कारखाना की शुरुआत होगी उन्होंने कहा कि उन्हें पूरा विश्वास है कि उसे कारखाने के लोकार्पण का आशीर्वाद भी जनता उन्हें ही देगी।

पीएम मोदी ने कहा कि देश आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ रहा है।आगामी 2047 तक विकसित भारत बन जाएगा। आज के समय में भारत 8.4% की दर से विकास की ओर बढ़ रहा है । उन्होंने कहा कि झारखंड खनिज से संपन्न राज्य है ।अब लोग इसे किसानों का राज भी मानेंगे क्योंकि यहां के किसान भी जल्द आत्मनिर्भर होंगे। अपने जमीन से बेहतर पैदावार लेंगे केंद्र सरकार हर तरफ झारखंड को भी सहयोग कर रही है। मोदी ने कहा कि सरकार ने जो संकल्प लिया वह पूरा किया। पिछले कुछ सालों में सरकार ने यूरिया का उत्पादन बढ़ाने पर बल दिया जिसमें सफलता भी मिली इसके लिए रामकुंडम समेत कई इलाकों में कारखाने शुरू किए गये। ट्रेन के क्षेत्र में भी झारखंड के यात्रियों को कई सुविधाएं मिलेगी। इससे कनेक्टिविटी बढ़ेगी इससे राज्य की क्षेत्रीय कनेक्टिविटी के साथ आर्थिक गति मिलेगी। 2047 के पहले भारत को विकसित बनाने का संकल्प है। पीएम मोदी ने कहा कि पिछले 10 वर्षों में जनजातीय समाज गरीबों युवाओं और महिलाओं को अपने सर्वोच्च प्राथमिकता बनाकर झारखंड के लिए दिया है। साथ ही विश्वास दिलाया कि जनजातीय समाज व झारखंड वासियों के लिए केंद्र सरकार लगातार प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि आज रेल क्रांति का नया अध्याय लिखा है। नई रेल लाइन बिछाने और मौजूदा रेल लाइन में भी बदलाव जारी है। धनबाद चंद्रपुरा को सुरक्षित स्थानों पर नया रेल लाइन उपलब्ध होगा। देवघर डिब्रूगढ़ ट्रेन से श्रद्धालु मां कामाख्या के शक्तिपीठ का दर्शन कर पाएंगे वाराणसी में कोलकाता से रांची एक्सप्रेस आधार शिला रखी गई है। एक्सप्रेस वे रामगढ़ व बोकारो समेत पूरे झारखंड में आने जाने की स्पीड आगे बढ़ने वाला है। धनबाद चंद्रपुरा रेल लाइन, टोरी शिवपुरी तीसरी रेल लाइन मोहनपुर हंसडीहा रेल लाइन नॉर्थ उरीमारी कोल हैंडलिंग प्लांट , रेट्रो फिटिंग प्रदूषण प्रणाली एफडीजी । रेल मंत्रालय के अनुसार 753.48 करोड़ की मोहनपुर हंसडीहा रेल लाइन की लंबाई 38.110 किलोमीटर है। इस रेल लाइन में पांच स्टेशन मोहनपुर खड़ियाडीह ,हरलाटांड़, ककनी व हंसडीहा है। इस नए रेल लाइन में पहली बार चलने वाली देवघर डिब्रूगढ़ ट्रेन है या नहीं रेल लाइन के चालू होने से देवघर से गोंडा रिलायंस से सीधे तौर पर जुड़ जाएगा देवघर और गोंडा आने जाने वाले यात्रियों को दुमका हुआ नोनीहाट से गुजरा नहीं पड़ेगा इस रेल लाइन के चालू होने से यात्रियों की ढाई घंटे की बचत होगी। देवघर से डिब्रूगढ़ तक चलने वाली पूर्वोत्तर के लिए देवघर से यह दूसरी ट्रेन है। पहली ट्रेन देवघर अगरतला एक्सप्रेस बांका और भागलपुर रोड से चलती है। देवघर से डिब्रूगढ़ ट्रेन का परिचालन मोहनपुर से हंसडीहा होकर चलेगी। इस रोड से ट्रेन का परिचालन होने से देवघर दुमका हुआ गोंडा जिले के रेल यात्रियों को सीधे तौर पर सुविधा हो जाएगी। रेलवे के अनुसार इस रूट से परिचालन होने पर समय की बचत होगी इस खंड पर इस ट्रेन को चराने के लिए कोई इंजन रिवर्सल नहीं होगा । साथ इस मार्ग से ट्रेन चलने से देवघर, भागलपुर, मुंगेर, खगड़िया व कटिहार जैसे शहर कनेक्ट होंगे । डिब्रूगढ़ से नॉर्थ बैंक होते हुए देवघर तक वर्तमान में कोई सीधी रेल कनेक्टिविटी नहीं है। इस ट्रेन का परिचालन शुरू होने से कनेक्टिविटी हो जाएगी। रेलवे द्वारा जारी समय सारणी के अनुसार सुबह 11:00 बजे देवघर डिब्रूगढ़ साप्ताहिक ट्रेन देवघर स्टेशन से खुलेगी पिछले 20 सालों से हर्ल कारखाना से उत्पादन बंद था। ऐसे में उद्घाटन के साथ ही रोजगार के नये आयाम खुलेंगे। प्रतिदिन 4,100 मीट्रिक टन इसकी उत्पादन क्षमता है। इस साल 10 लाख मैट्रिक टन यूरिया का उत्पादन किया गया। आने वाले वर्ष में निर्धारित लक्ष्य सालाना 12 लाख मीट्रिक टन है।

Transcript Unavailable.

Transcript Unavailable.

Transcript Unavailable.

Transcript Unavailable.

Transcript Unavailable.

Transcript Unavailable.

Transcript Unavailable.

Transcript Unavailable.