अखिल भारतीय मारवाड़ी युवा मंच के 36 वे स्थापना दिवस के  अवसर पर बिहार प्रांतीय मारवाड़ी युवा मंच के द्वारा “मिशन 57” के तहत छपरा शाखा ने स्थानीय *राजकीय रामचंद्र प्रसाद महाशय शिशु विद्यालय* छपरा के छात्र-छात्राओं के बीच स्वच्छता अभियान चलाया । मंच के अध्यक्ष विकाश चांदगोठिया जी ने बताया कि प्रांत “मिशन 57” के तहत पूरे बिहार के सभी 57 शाखाओं में एक साथ – एक दिन में सरकारी स्कूलों में *स्वच्छ भारत जागरूकता अभियान* का कार्यक्रम आज चला रहीं है।इस मिशन में छपरा शाखा भी अपना योगदान दें रही हैं वहीं सचिव विशाल जगनानी जी ने बोला की बच्चे कल के भविष्य है अगर इन्हें अभी से ही स्वच्छता के प्रति जागरूक करते हैं तो ये आगे जाकर महात्मा गांधी के सपनों को साकार करेंगे । कार्यक्रम की शुरुआत संयोजक श्री चंदन सिंघानिया जी ने क्लासरूम की सफाई के साथ की।इनका साथ कोषाध्यक्ष श्री गोपाल जी अग्रवाल,उपाध्यक्ष श्री अमित जी बजाज,सहायक मंत्री श्री संदीप मिश्रा जी एवं श्री पंकज चांदगोठिया,मोहित अग्रवाल,सिद्धार्थ अग्रवाल,विवेक बजाज,रचित पोद्दार,राहुल पोद्दार,कन्हैया कुमार,अभिषेक अग्रवाल,प्रांजल चांदगोठिया,रवि माहेश्वरी एवं नितिन माहेश्वरी इत्यादि ने दिया।उपस्थित शिक्षक एवं शिक्षिकाओं ने भी अपना बहुमूल्य योगदान दिया।

ग्रमीण चिकित्सा कल्याण विकास संस्थान के बैनर तले एक्यूट इंसेफ्लाइटिस सिंड्रोम जागरूकता अभियान आयोजित गया। संवाददाता प्रेम कुमार हाजीपुर भगवानपुर प्रखंड क्षेत्र के मरछिया गांव स्थित पंचायत भवन पर मंगलवार को ग्रमीण चिकित्सा कल्याण विकास संस्थान के बैनर तले ग्रामीणों के बीच एक्यूट इंसेफ्लाइटिस सिंड्रोम जागरूकता अभियान आयोजित हुआ.जिसकी अध्यक्षता डॉ धर्मशीला सिंह ने की जबकी संचालन सचिव सुरेंद्र कुमार ने किया। जागरूकता अभियान के दौरान ग्रामीणों को बताया गया कि रात्रि में अपने बच्चों को खाली पेट न सुलाय,साथ ही बच्चों पर विशेष ध्यान देने की बात कही।मुख्य रूप से यूनिसेफ के राज्य समन्वयक अकरम, संतोष कुमार, दीपक कुमार, शुभाष कुमार एवं हेल्थ मैनेजर नवीन कुमार ने बारी बारी से एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम के बारे में बताया।वही सुरेन्द्र कुमार ने भगवानपुर अड्डा तक ग्रामीण चिकित्सकों के साथ रैली निकालकर कर लोगो को जागरूक किया।इस अवसर पर संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव कुमार, डॉ महेश साह, डॉ अशोक कुमार राय, प्रभास कुमार, रामजी राम, डॉ अखिलेश कुमार सहित सैकड़ों ग्रामीण चिकित्सक उपस्थित थे।

Transcript Unavailable.

झारखण्ड मोबाइल वाणी पर चलाए जा रहे घरेलु हिंसा अभियान के नवी कड़ी चलाई गई जिसमे घरेलु हिंसा किसी के साथ भी हो सकता है चाहे वह महिला,पुरुष,बुजुर्ग या बच्चे किसी के साथ भी हो सकता है।साथ ही पिछले कड़ी में यह चर्चा किया गया की हिंसा का महिला के जीवन में क्या असर पड़ता है।जहां कई श्रोताओ ने अपना योगदान दिया।और उन्हें सर्व श्रेष्ठ श्रोता चुन गया है वो है-पुर्वि सिंहभूम से नरेन्द्र कुमार पाल,अजय कुमार भगत पोटका से,पुर्वि सिंहभूम से मंजू देवी,पुर्वि सिंहभूम से माला देवी और हिमांशु कुमार भगत पुर्वि सिंहभूम के पोटका प्रखंड से।

झारखण्ड मोबाइल वाणी के माध्यम से एक एपिसोड जिसमे बसंती और शशि घरेलु हिंसा से जुड़े अभियान में महिलाओ के साथ हो रहे आर्थिक हिंसा के बारे में बताया जा रहा है.महिला को पैसा या बाकि अन्य आर्थिक संसाधनों से वंचित रखना जो की उसे कानूनन रूप से मिले हुए है जैसे की स्त्री धन.

इस कड़ी में घरेलु हिंसा के तहत है पुरुष द्वारा महिलाओ के साथ होने वाली यौनिक हिंसा के बारे में चर्चा की जा रही है.

इस एपिसोड में घरेलु हिंसा के तहत है महिलाओं के साथ विवाह पूर्व और विवाह के बाद होने वाली मानसिक हिंसा की बात की जा रही है..

यह प्रोमो घरेलु हिंसा के तहत है जिसमे संगीता और अमित द्वारा लोगो को होली की बधाई दी गई है और साथ ही गह्रेलु हिंसा के विषय वास्तु पर चर्चा की गई है

ऋतू और वसन्ती रांची झारखण्ड मोबाइल वाणी के माध्यम से jmv श्रोताओ को घरेलु हिंसा के रूपों जानकारी दे रही है की घरेलू हिंसा सिर्फ शादी शुदा महिलाओ के साथ ही नहीं होता बल्कि एक अविवाहिता के साथ भी हो सकती जिसमे भ्रूण हत्या भी शामिल है साथ लड़की को जब मन-पसंद चीजे ना करने देना भी घरेलु हिंसा है आवाज उठाने पर आनर किलिंग का सामना करना पड़ता है

झारखण्ड मोबाइल वाणी पर चलाए जा रहे घरेलु हिंसा अभियान के दूसरी कड़ी चलाई गई जिसके महिला हिंसा के कारणोपर चर्चा किया जा रहा है साथ ही यह जानकारी प्राप्त करेंगे की आखिर क्यो होता है महिला हिंसा।और ऐसी समस्या पर महिलाए कानून से कैसे मदद ले सकेंगी।ओए विभिन्न प्रकार से रोक-टोक भेद-भाव मानशिक हिंसा,शारीरिक हिंसा तथा अन्य प्रकार से किया जाने वाला हिंसा भी हिंसा का ही रूप है इस विषय पर काफी लोगो ने अपनी राय झारखण्ड मोबाइल वाणी को बताया।जिसमे अवनीश कुमार दुमका जिले के काठीकुंड प्रखंड से बताते है कि आज घरेलु हिंसा से काफी महिलाए पीड़ित है इससे बचाव के लिए प्रतेक महिलाओ को जागरूक होने की आवश्यकता है।साथ ही पूर्वी सिंहभूम,घाटशिला प्रखंड से चित्रा मांझी बताती हैं कि घरेलु हिंसा से पीड़ित महिलाओ के साथ एक सामुदिक बैठक का आयोजन किया गया जिसमे काफी महिलाए शामिल हुई और बताई की घरो में महिलाओ के साथ मारपीट करना घरेलु हिंसा है। इससे बचने के लिए महिलाओ को इसका मुकाबला करना चाहिए।साथ ही पूर्वी सिंहभूम से अजय कुमार भगत ने भी अपना राय कुछ इस प्रकार से रखा की घरो में महिलाए चुपचाप इस हिंसा से प्रताड़ित होती है।अत:महिलाओ को इसका विरोध करना चाहिए और अपने घरो में सब के साथ मिलजुल क्र रहना चाहिए।और अंत में श्रोताओ से यह राय जानना चाहते है की घरेलु हिंसा की शिकार सिर्फ विवाहित महिलाओ के साथ ही नहीं बल्कि अविवाहिता के साथ भी होता है।