मुंगेर में कुल 9918 कोरोना पॉजिटिव मरीजों में 7596 हुए हैं स्वस्थ्य - जिले में एक्टिव केस 2242, गुरुवार को मिले 435 कोरोना पॉजिटिव - कोरोना जांच के लिए लिया गया है कुल 464772 लोगों का सैम्पल मुंगेर, 06 मई| मुंगेर में गुरुवार तक कुल 9918 कोरोना पॉजिटिव मरीजों में से कुल 7596 मरीज कोरोना संक्रमण को हराकर स्वस्थ्य हो चुके हैं। सिविल सर्जन डॉ. हरेंद्र आलोक ने बताया जिले में लोगों के कोरोना संक्रमित होने की तुलना में अच्छी खासी संख्या में लोग कोरोना संक्रमण से जीतकर स्वस्थ्य भी हो रहे हैं। गुरुवार को जिले में कुल 435 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए - मुंगेर के सिविल सर्जन डॉ. हरेंद्र आलोक ने बताया गुरुवार को जिले में कुल 435 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं| जिसमें 296 पुरुष और 139 महिलाएं हैं। जिले के विभिन्न आइसोलेशन सेंटर में या होम आइसोलेशन में गुरुवार तक कुल 1376 मरीज भर्ती हुए। इनमें से 50 मरीज मुंगेर के आइसोलेशन में भर्ती हुए जबकि 45 मरीजों को दूसरे जगह रेफर भी किया गया है। गुरुवार को 17 कोरोना पॉजिटिव मरीज मुंगेर के आइसोलेशन सेंटर में भर्ती किए गए हैं। उनके मुताबिक जिले के कुल 79 लोगों की मौत कोरोना संक्रमण वजह से हो चुकी है। वहीं मुंगेर से बाहर जिले के कुल 15 लोगों ने भी कोरोना संक्रमण की वजह से अपनी जान गवां दी है। कोरोना जांच के लिए कुल 464772 लोगों का सैम्पल लिया गया- उन्होंने बताया कि जिले में गुरुवार तक कोरोना जांच के लिए कुल 464772 लोगों का सैम्पल लिया गया है। जिसमें से अभी कुल 2242 एक्टिव केस है। जिले में एंटीजन कोरोना जांच के लिए कुल 806 लोगों का सैम्पल लिया गया था। इसी तरह पीएमसीएच लैब पटना के लिए कुल 586 लोगों का सैम्पल संग्रहित किया गया। इसके अलावा ट्रूनेट जांच के लिए मुंगेर लैब में कुल 59 सैम्पल लिए गए थे । कोरोना गाइड लाइन का पूरी तरह से पालन करते हुए ही अपने- अपने घरों से बाहर निकलें- उन्होंने बताया राज्य सरकार के आदेश से जिले में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए बुधवार से एक बार फिर से लॉक डाउन लगाया गया है। इसलिये सभी लोगों से अपील है अनावश्यक अपने घरों से निकलने से परहेज बरतें। यदि किसी अनिवार्य कार्य से घर से बाहर निकलना जरूरी हो तो कोरोना गाइड लाइन का पूरी तरह से पालन करते हुए ही अपने- अपने घरों से बाहर निकलें। अनिवार्य रूप से मास्क का इस्तेमाल करें। सामाजिक दूरी के नियम के तहत एक- दूसरे से कम से कम दो गज या छह फीट की दूरी बरतें। अपने हाथों की नियमित साफ- सफाई के लिए साबुन या हैंड सैनिटाइजर का नियमित इस्तेमाल करें तभी कोरोना वायरस के संक्रमण को पूरी तरीके से हराया जा सकता है। कहा सभी लोग देश और समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए लॉक डॉउन के दौरान खुद भी कोरोना गाइड लाइन का पालन करें और दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित करें। सभी लोग इस अवधि में घरों से बाहर न निकलें और अपने परिवार के साथ अपना कीमती वक्त गुजारें| ताकि इस विभीषिका के वक्त पूरे परिवार को एक- दूसरे का साथ मिल सके और सभी लोग सामूहिक प्रयास से कोरोना संक्रमण से बचे रह सकें । इन मानकों का करें पालन, कोविड-19 संक्रमण से रहें दूर रहें :- - मास्क का उपयोग और शारीरिक दूरी का पालन जारी रखें। - लक्षण महसूस होने पर कोविड-19 जाँच कराएं। - जरूरी नहीं हर सर्दी-खांसी कोरोना ही है, इसलिए, निर्भीक होकर सकारात्मक सोच के साथ कराएं जाँच। - अधिक जरूरी पड़ने पर ही घर से बाहर निकलें । - घर में सकारात्मक माहौल बनाएं और रचनात्मकता कार्य करें। - साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखें और लगातार साबुन या अल्कोहल युक्त पदार्थों से हाथ धोएं।

प्रेस विज्ञप्ति। युवा राजद के राष्ट्रीय महासचिव सह मुंगेर विधानसभा राजद प्रत्याशी अविनाश कुमार विधयार्थी उर्फ मुकेश यादव एवं राजद के राज्य परिषद सदस्य शिशिर कुमार लालू ने बुधवार को बिहार भाजपा नेताओं द्वारा बंगाल में हो रहे हिंसा को लेकर धरना को नाटक करार देते हुए कहा की ये सिर्फ बिहार में करोना महामारी से बदहाल स्वास्थ में चौपट इन्तजाम से हो रहे लोगौं की मौत से ध्यान हटना के लिए एक नाटक किया जा रहा है जो की एन डी ए सरकार की संवेदनहीनता पर पर्दा डालने जैसा है।एक ओर प्रदेश में कोरोना विकराल रूप धारण करते जा रहा है वही सरकार के मुखिया नीतीश कुमार हाई लेबल बैठक कर लोगों को सिर्फ भ्रमित कर रहे है जब प्रदेश में भाजप जद यु की डबल इंजन की सरकार है उसके बाबजूद पुर्व से ही देश विदेश के तमाम स्वास्थ संगठनों द्वारा अगाह किया जा रहा था की कोरोना का दुसरा लहर आने वाला उसके बाबजूद पुरे प्रदेश के अस्पतालौं में करोना पीड़ित लोगों के इलाज के लिए न तो आइसोलेशन वार्ड बनाया गया न तो ऑक्सिजन,जीवन रक्षक दवाई,वेन्टिलेटर के साथ ही साथ जाॅच की व्यवस्था को सुदृढ़ किया गया लोगों को भगवान भरोसे छोड़ दिया गया जिसके कारण बिहार के सैकडौं लोगों को जान गमानी पड़ी। बिहार सरकार समय रहते लाॅकडाउन लगा दिया होता तो संक्रमन को रोका जा सकता था लेकिन इस डरी हुई सरकार बंगाल चुनाव परिणाम और अपने आका प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आदेश के इंतजार में बिहार के लोगों को नजाने कितने अपने खोने को मजबुर कर दिया।भाजपा के नेताओं में अगर तनीक भी मानवता बची होती तो उनको इस महामारी में बिहार के लोगों को बचाने में विफल सरकार के खिलाफ धरना देना चाहिए ।एक ओर देश के पाॅच प्रदेशों एवं उत्तरप्रदेश में पंचायत चुनाव में सत्ता हथियाने के लिए बड़ी बड़ी रैली कर पुरे देश में कोरोना को फैलाने का काम किया अब जब मामला हाथ से निकल गया तो बंगाल को हथियार बना कर अपने कुकृत को छुपाने के लिए धरना जैसा नाटक कर रहें है आगे इन्होनें कहा की मुंगेर स्थानीय विधायक एंव मंत्री द्वारा राजनीतिक पिकनीक मनाया जा रहा है वो रोज रोज सिर्फ अस्पताल एवं कोविड वार्ड का निरिक्षण कर सिर्फ नाटक कर रहे है ये लोग सिर्फ मुंगेर के लोगों को मुर्ख बनाना चाहते है।इनको ये बताना चाहिए की इनकी सरकार समय रहते कितने ऑक्सिजन युक्त बेड़ लगाये,समय पर लोगों वैक्सिन लगाने की व्यवस्था की,जाॅच रिपोर्ट समय से मिले इसके लिए क्या कदम उठाया गया,ऑक्सिजन की समुचित व्यवस्था के लिए क्या किया गया,जीवन रक्षक दवाई जैसे रेड़मेसिविर को क्यों नही समय पर मंगाया गया,क्यो नही प्राइवेट नर्सिंग होम पर लगाम लगाया जहाॅ खुले आम पीड़ित परिवारों से इलाज के नाम पर लुट किया जा रहा है उसके बाबजूद लोगों को जान गवानी पड़ रही है।हद देखिए की बिहार सरकार पुरे प्रदेश की देखरेख हेतु प्रभारी मंत्री बनाया जिसके तहत बिहार के उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद को मुंगेर का जिम्मा दिया गया लेकिन वो इतने डरे है की एक सप्ताह होने के बाबजुद भी मुंगेर नही आए ये समझने के लिए काफी है की सरकार और सरकार के मंत्री इस महामारी से लोगों को बचाने के लिए कितने गंभीर है।

बुधवार को मुंगेर जिले की डीएम एवं एसपी मुंगेर क्षेत्र में भ्रमण कर लोगों को लॉक डाउन का पालन कराने हेतु प्रेरित करने के लिए बाजार में पैदल मार्च कर लोगों को समझाएं और लॉक डाउन का पालन करने के लिए बताएं

धरहरा (संवाददाता):- बिहार मे कोरोना के दूसरी लहर का पहला लाँकडाउन को सरजमीन पर लागु कराने हेतु मुगेंर जिला प्रशासन ने सरकार के निर्देश का पालन करने की अपील लोगो से किया है । इसी कडी़ मे मंगलवार को धरहरा बीडीओ डाँ प्रभात रंजन, अंचलाधिकारी पुजा कुमारी के संयुक्त तत्वाधान मे धरहरा थानाध्यक्ष रोहित कुमार सिंह , लडै़याटाँड़ थानाध्यक्ष नीरज कुमार ठाकुर , हेमजापुर ओपी प्रभारी सुनील कुमार सहनी ने धरहरा प्रखंड के धरहरा बाजार , दशरथपुर ,नक्सल प्रभावित क्षेत्र के बंगलवा बाजार,दरियापुर चौक,धरहरा प्रखंड के एन एच -80 हेमजापुर ,शिवकुण्ड सहित विभिन्न क्षेत्रो के लोगो से अपील किया कि सरकार बिहार की जनता को कोरोना महामारी से सुरक्षा प्रदान करने हेतु बिहार मे कोरोना के दूसरी लहर का पहला लाँकडाउन प्रारंभ की है जिसमे जनता का सहयोग अपेक्षित है । लाँकडाउन को तोड़ने वाले लोगो के विरूद्ध दण्डात्मक कारवाई की जाएगी, इसलिए सरकार के निर्देश का पालन करे,घर मे रहे सुरक्षित रहे ।जिला प्रशासन आपके सुरक्षा के लिए हर मुमकिन कोशिश करने को तत्पर है ।विस्तार पूर्वक जानकारी के लिए क्लिक करें ऑडियो पर और सुनें पूरी खबर।

कोरोना संक्रमण की वजह से एक किराने दुकानदार की हुई मौत

भारत सरकार के पूर्व केंद्रीय मंत्री सह मुंगेर और बांका के पूर्व सांसद जयप्रकाश नारायण यादव ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि बिहार में कोरोना संक्रमण का हाहाकार मचा हुआ है ।विगत वर्ष के कोरोना संक्रमण से इस बार का कोरोना संक्रमण प्राणघातक है। इस बार कोरोना संक्रमित लोगों का तुरंत ऑक्सीजन लेवल घट जाता है ।जो की चिंता का विषय बना हुआ है ।उन्होंने कहा कि बांका, मुंगेर, जमुई और भागलपुर में तुरंत ऑक्सीजन प्लांट लगाया जाना चाहिए। उन्होंने सरकार से मांग करते हुए कहा कि इन जिलों में जहां भी जमीन उपलब्ध है वहां तुरंत प्राथमिकता के साथ उन प्रखंडों में ऑक्सीजन प्लांट लगाए जाए ।ताकि कोरोना कि त्रासदी से बचा जा सके। उन्होंने कहा कि जमालपुर रेल कारखाने में सैकड़ों प्रशिक्षित रेल अप्रेंटिस हैं। इसका भी लाभ सरकार ऑक्सीजन प्लांट लगाने में ले सकते हैं।उन्होंने सरकार से मांग किया कि मानव हित में ऑक्सीजन प्लांट लगाने में त्वरित कार्रवाई करें। ताकि कई घर उजड़ने से बच पाए। साथ ही उन्होंने सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि पूर्व में साइंटिस्ट ने आगाह किया था कि कोरोना का दूसरा कहर भी आएगा और वह घातक होगा। लेकिन सरकार ने इसकी तैयारी नहीं की बल्कि वैक्सीन बनाने में जुटी रही। वैक्सीन बना भी लेकिन आपूर्ति का घोर अभाव दिख रहा है ।वहीं सरकार के द्वारा ऑक्सीजन प्लांट, वेंटिलेटर,कोरोना जांच कीट , मेडिकल बेड आदि का निर्माण पर विशेष ध्यान नहीं दिया।वही एंबुलेंस की व्यवस्था भी सही नहीं है। सरकार ने कोरोना की तैयारी छोड़कर पूरा ध्यान बंगाल आदि राज्यों के चुनाव में लगा दिए। जिसका खामियाजा आज देश की जनता भुगत रही है। मुंगेर में बढ़ते कोरोना संक्रमण पर उन्होंने कहा कि यदि मुंगेर में मेडिकल कॉलेज की स्थापना हुई होती तो इन प्रमंडल के कई जिलों के रोगियों को काफी सुविधा मिल पाता।

भारत सरकार के पूर्व केंद्रीय मंत्री जयप्रकाश नारायण यादव ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि बिहार में कोरोना संक्रमण का हाहाकार मचा हुआ है ।विगत वर्ष से इस बार का कोरोना संक्रमण प्राणघातक है। सरकार ने मुंगेर में मेडिकल कॉलेज की स्थापना नहीं की जिस कारण इन प्रमंडल के जिलों में कोरोना संक्रमण से काफी परेशानी हो रही है ।यदि मुंगेर जिले में मेडिकल कॉलेज की स्थापना होती तो भयावह स्थिति उत्पन्न नहीं होती।

मुंगेर नगर निगम के वार्ड संख्या 10 के वार्ड आयुक्त राजेश कुमार ठाकुर ने मंगलवार को मास्क एवं सैनिटाइजर का वितरण किया। उन्होंने कहा कि बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए गरीब एवं निशहाय के पास मास्क एवं सैनिटाइजर का वितरण किया गया। ताकि संक्रमण से बचा जा सके।

कार्डधारक को राज्य सरकार मई-जून माह का देगी निशुल्क राशन।

मुंगेर चेंबर ऑफ कॉमर्स के उपाध्यक्ष पिछले 1 सप्ताह पहले ही संपूर्ण लाॅकडाउन की मांग मुंगेर जिला पदाधिकारी रचना पाटिल से की थी विस्तृत जानकारी के लिए ऑडियो पर क्लिक कर पूरी खबर को सुने और बने रहे मोबाइल वाली के साथ आपका अपना सामुदायिक मीडिया चैनल सबसे आगे सबसे पहले हर पल पल की खबरें सुनते रहे 092787 01369 पर मिस कॉल कर जिले का हर छोटी बड़ी खबर को सुनें और तीन नंबर का बटन दबाकर अपनी समस्या या प्रतिक्रिया रिकॉर्ड करें यदि आप स्मार्ट फोन उपयोग करता है तो मोबाइल वाली ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड कर जिले से संबंधित हर छोटी बड़ी खबर को ऐप पर सुने और लाल वाली माइक बटन दबाकर अपनी समस्या या प्रतिक्रिया रिकॉर्ड करें धन्यवाद



(Copyright) Gram Vaani

License for using the audio links: These links of people's voices can be used for research and advocacy efforts provided they are in line with the Mobile Vaani manifesto. If you plan to use these links then please inform us at contact@gramvaani.org and cite appropriate papers in your report, such as the following: Moitra et al (2016) on the Mobile Vaani operational model, Chakraborty et al (2017) on the use of Mobile Vaani for social accountability, Chakraborty et al (2019) on behavior change communication through Mobile Vaani, Seth et al (2020) on design axes for voice-based discussion forums, and Seth (2020) on ethical practices to manage information platforms. Please cite only the mp3 links and not the pages themselves.