दोस्तों मानव शरीर के निर्माण में भोजन एक महत्वपूर्ण तत्व है। प्रकृति ने कई प्रकार के खाद्य पदार्थ बनाए हैं जो महत्वपूर्ण और आवश्यक पोषक तत्वों से युक्त कोशिकाओं और शरीर के ऊतकों के निर्माण के लिए महत्वपूर्ण हैं, तभी तो शरीर को ऊर्जा प्रदान करने के लिए पर्याप्त मात्रा में भोजन करने की आवश्यकता होती है। साथियों, दुनिया भर में दूषित भोजन खाने से लाखो लोग मौत मुंह में समां जाते हैं।यह दिवस लोगों को याद दिलाता है कि शुद्ध और सुरक्षित भोजन स्वास्थ्य के लिए जरूरी है और यह सभी लोगों का अधिकार भी है। हर साल UN फूड एंड एग्रीकल्चर ऑर्गेनाइजेशन (FAO) एक थीम निर्धारित करता है जिसके तहत विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस मनाया जाता है।इस वर्ष World Food Safety Day 2024 की थीम है, ‘सुरक्षित भोजन बेहतर स्वास्थ्य’. तो साथियों आइए हम सब मिलकर विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस मनाये और हर दिन शुद्ध और सुरक्षित भोजन का सेवन करें। धन्यवाद !!

साल 2013-2017 के बीच विश्व में लिंग चयन के कारण 142 मिलियन लड़कियां गायब हुई जिनमें से लगभग 4.6 करोड़ लड़कियां भारत में लापता हैं। भारत में पांच साल से कम उम्र की हर नौ में से एक लड़की की मृत्यु होती है जो कि सबसे ज्यादा है। इस रिपोर्ट में एक अध्ययन को आधार बनाते हुए भारत के संदर्भ में यह जानकारी दी गई कि प्रति 1000 लड़कियों पर 13.5 प्रति लड़कियों की मौत प्रसव से पहले ही हो गई। इस रिपोर्ट में प्रकाशित किए गए सभी आंकड़े तो इस बात का प्रमाण है कि नई-नई तकनीकें, तकनीकों में उन्नति और देश की प्रति व्यक्ति आय भी सामाजिक हालातों को नहीं सुधार पा रही हैं । लड़कियों के गायब होने की संख्या, जन्म से पहले उनकी मृत्यु भी कन्या भ्रूण हत्या के साफ संकेत दे रही है। तो दोस्तों आप हमें बताइए कि *----- आखिर हमारा समाज महिला के जन्म को क्यों नहीं स्वीकार पाता है ? *----- शिक्षित और विकसित होने के बाद भी भ्रूण हत्या क्यों हो रही है ? *----- और इस लोकसभा चुनाव में महिलाओ से जुड़े मुद्दे , क्या आपके लिए मुद्दा बन सकता है ??

हांगकांग के फूड सेफ्टी विभाग सेंटर फॉर फूड सेफ्टी ने एमडीएच कंपनी के मद्रास करी पाउडर, सांभर मसाला मिक्स्ड पाउडर और करी पाउडर मिक्स्ड मसाला में कीटनाशक एथिलीन ऑक्साइड पाया है और लोगों को इसका इस्तेमाल न करने को कहा है. ऐसा क्यों? जानने के लिए इस ऑडियो को क्लिक करें

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ" के नारे से रंगी हुई लॉरी, टेम्पो या ऑटो रिक्शा आज एक आम दृश्य है. पर नेशनल काउंसिल ऑफ एप्लाइड इकोनॉमिक रिसर्च द्वारा 2020 में 14 राज्यों में किए गए एक अध्ययन में कहा गया है कि योजना ने अपने लक्ष्यों की "प्रभावी और समय पर" निगरानी नहीं की। साल 2017 में नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (CAG) की रिपोर्ट में हरियाणा में "धन के हेराफेरी" के भी प्रमाण प्रस्तुत किए। अपनी रिपोर्ट में कहा कि बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ स्लोगन छपे लैपटॉप बैग और मग खरीदे गए, जिसका प्रावधान ही नहीं था। साल 2016 की एक और रिपोर्ट में पाया गया कि केंद्रीय बजट रिलीज़ में देरी और पंजाब में धन का उपयोग, राज्य में योजना के संभावित प्रभावी कार्यान्वयन से समझौता है।

आज की कड़ी में हम सुनेंगे सोशल मीडिया से फ़ोटो चोरी होने से सम्बंधित जोखिमों के बारे में जानकारी।

आज की कड़ी में हम सुनेंगे सोशल मीडिया से संबंधित जोखिमों के बारे में ऑनलाइन पैसों का लेन देन और अपनी वीडियो डालना कितना सुरक्षित है।

आज की कड़ी में हम सुनेंगे की सोशल मीडिया के द्वारा कैसे हमारी जानकारीयां कहीं और भी जा रही होती है

लोनी चीनी मिल में बीते एक सप्ताह से चल रहे राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह के समापन पर अनुकरणीय प्रदर्शित करने वालों को उनकी टीमों के साथ पुरस्कृत किया गया

बेटियों की सुरक्षा के प्रति गंभीर हैं महिला पुलिस टीम . #हरदोई: मिशन शक्ति अभियान के तहत महिला पुलिस टीम थाना पचदेवरा द्वारा क्षेत्र के विभिन्न ग्राम/मौहल्लों/प्राथमिक विद्यालय व अन्य सार्वजनिक स्थानों पर चैकिंग कर महिलाओ/बालिकाओ व छात्राओं को महिला सुरक्षा के संबंध मे जागरुक किया गया, उधर थाना कासिमपुर, कछौना, टड़ियावा हरपालपुर पुलिस की महिला टीम द्वारा क्षेत्र के विभिन्न ग्राम/मौहल्लों/प्राथमिक विद्यालय व अन्य सार्वजनिक स्थानों पर चैकिंग कर महिलाओ/बालिकाओ व छात्राओं को महिला सुरक्षा के संबंध मे जागरुक किया गया।

#हरदोई: जहाँ एक ओर सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ बुनियादी सुविधाओं के लिए कोई कसर नहीं छोंड़ रहे हैं वहीं उनके मातहत आम जनमानस को मौत के मुँह में धकेलना चाहते हैं। ये तस्वीर नगर पालिका परिषद हरदोई के मुख़्य व व्यस्ततम सिनेमा चौराहे की हैं, जहाँ पिछले एक सप्ताह से डिवाइडर राहगीरों के लिए मौत का मुँह खोले हुए हैं, पर जिम्मेदारों को ये दिखाई नहीं देता? हालांकि अभी दो दिन पूर्व ही शासन प्रशासन की मौजूदगी में यहाँ सड़क के किनारे इंटरलॉकिंग का लोकार्पण किया गया था, पर जिम्मेदारों ने इन जानलेवा पत्थरों पर कोई ध्यान नहीं दिया, रात में इससे टकराकार कई वाहन क्षतिग्रस्त होते हैं।