• माहवारी में साफ-सफाई का रखें विशेष ख्याल • समुचित पोषण से मिलेगी रक्तअल्पता से सुरक्षा पटना - कोरोना संकट अभी तक पूरी तरह टला नहीं है बल्कि कई जिलों और राज्यों में अल्प अवधि के लिए पुनः लॉकडाउन लागू कर दिया गया है. लॉकडाउन की वजह से लोगों को घरों से बाहर निकलने में दिक्कत हो रही है और कई चीजों की आपूर्ति प्रभावित हुई है । हालांकि इस समस्या को धीरे – धीरे दूर करने का प्रयास किया जा रहा है| ऑडियो पर क्लिक कर सुनें विस्तृत जानकारी। श्रोताओं 8800984861पर मिस कॉल कर स्वास्थ्य, पोषण कोविड 19 और जिले की हर छोटी बड़ी खबर सुने और 3 नंबर का बटन दबा कर अपनी समस्या या प्रतिक्रिया भी साझा करे। यदि आप समार्टफोन उपयोगकर्ता है! तो मोबाईल वाणी एप्प् प्ले स्टोर से डाउनलोड कर जिले से संबंधित हर छोटी बड़ी खबर को एप्प् पर सुने और लाल वाली माइक बटन दबा कर अपनी समस्या या प्रतिक्रिया भी रिकार्ड करे। धन्यवाद

दोस्तों , कोरोना काल में ऐसी कई सारी बाते है जिससे हमारी गर्भवती महिलायें जूझ रहीं है। चाहे वो स्तनपान कराने की समस्या हो या बच्चों को पौष्टिक भोजन संबंधी। इन सारी बातों का जबाब जानने के लिए इस ऑडियो पर क्लिक करें।

लॉक डाउन के दौरान स्कूली व आंगनबाड़ी बच्चों को मिलने वाले पोषण मध्यां भोजन के लिए सूखा राशन व ईंधन आदि की रक़म नकद राशि के रूप में लाभार्थियों को देने का निर्णय लिया गया। वहीं आंगनबाड़ी साहिकाओं द्वारा घर घर जा कर गर्भवती महिलाओं व बच्चों तक लाभ पहुँचाने का निर्देश दिया गया है। कई क्षेत्रों में यह सुविधाएँ से लाभार्थी वंचित रह जा रहे है। क्या नामांकित बच्चों को यह लाभ मिल रहा है ?अगर नहीं ,तो क्या कारण है जो बच्चें अपने अधिकारों से वंचित रह जा रहे है ?इन योजनाओं से जुड़ी अन्य बातों को सुनने के लिए क्लिक करे ऑडियो पर...

झारखंड राज्य के रांची जिला से संजना कुमारी बताती हैं कि लॉक डाउन होने के कारण उन्हें काफी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। आंगनबाड़ी से मिलने वाली सुविधा जैसे - पैड ,आयरन की गोली आदि दी जाती थी लेकिन लॉक डाउन कारण ये सब नहीं मिल रही है। इसके लिए क्या करना होगा ,जानकारी दें

झारखण्ड राज्य के रांची जिला से सोनी देवी बताती हैं कि आंगनबाड़ी बंद होने के कारण नवजात शिशु को टिका नहीं लगा साथ ही बीसीजी का सुई भी नहीं मिला है

घर के बुर्जुर्गों का मानसिक और शारारिक पूरे परिवार की ज़िम्मेदारी है। इस मुश्किल दौर में घर के बुजुर्गों पर खासा ध्यान दें। घर के बुजुर्गों के अच्छे स्वास्थ्य के लिए किन किन चीज़ों का ध्यान रखना है ,पूरी जानकारी के लिए सुनें ऑडियो

झारखण्ड राज्य के रांची जिला बीआईटी से संजना कुमारी अब मेरी बारी कार्यक्रम के माध्यम से बताती हैं कि उन्हें अब मेरी बारी कार्यक्रम बहुत अच्छा लगता है और किशोर -किशोरियों को बहुत फायदा पहुंच रहा है। वे बतातीं हैं कि वे पहले आयरन की गोली नहीं खाती थी क्योंकि उन्हें लगता था कि आयरन की गोली सिर्फ बड़े लोग ही खाते हैं और इससे किशोर -किशोरियों का कोई लेना देना नहीं होता है। माँ के कहने पर भी वे हरी साग सब्ज़ियाँ नहीं खाती थी लेकिन जब उन्होंने अब मेरी बारी कार्यक्रम सुना और उन्हें आयरन की गोली के महत्व की विस्तार से जानकारी दी गयी तब उन्हें पता चला कि आयरन की गोली शरीर में खून की कमी नहीं होने देता है और किशोर -किशोरियों के बढ़ते शरीर के लिए आयरन की गोली बहुत जरुरी होता है।इन सब जानकारियों के लिए वे अब मेरी बारी कार्यकर्म को धन्यवाद दे रही हैं।

टिपि-टिप दीदी बता रही हैं शारीरिक विकास के लिए आवश्यक पौष्टिक भोजनों के विषय में। पूरी जानकारी सुनने के लिए क्लिक करें ऑडियो पर...

Transcript Unavailable.

Transcript Unavailable.