दोस्तों, मीना भी एक डॉक्टर बनना चाहती है। और सबसे अच्छी बात है कि उसके पिता और डॉ. स्नेहा, मीना के साथ है। डॉ. स्नेहा और मीना की पिता की बीच और क्या-क्या बातचीत हुई है, सुनने के लिए क्लिक करें।

आखिर कैसे करना है स्वच्छता एलान, समय आ गया है इसके बारे में जानने का। सुनने के लिए क्लिक करें।

प्रतापपुर में फैली महामारी से जुड़े हालात फिलहाल काबू में है। लेकिन क्या लोग गावँ में फैली इस महामारी का कारण समझकर उसमे सुधार लाएंगे? ये जानने के लिए क्लिक करें।

दोस्तों, खुले में शौच का मतलब है बीमारियों को अपने घर में बुलावा, कैसे ? सुनने के लिए क्लिक करें।

दोस्तों, स्वच्छता ना बनाये रखने से होती है कई बीमारियाँ। क्या प्रतापपुर में फैली इस महामारी से डॉ. स्नेहा गावँ वालों को बचा पाएँगी। सुनने के लिए क्लिक करें।

Transcript Unavailable.

अपने घर में बिमारियों की फौज को हम खुद देते हैं न्योता, कैसे? सुनने के लिए क्लिक करें।

खुले में शौच वाली सोच सिर्फ स्वास्थ्य पर ही नहीं बल्कि सुरक्षा पर भी वार करती है, कैसे ? सुनने के लिए क्लिक करें।

झारखण्ड राज्य राँची जिला ओरमांझी से पलक प्रिया अब मेरी बारी कार्यक्रम के माध्यम से बतातीं हैं कि पहले उन्हें माहवारी के समय साफ़ सफ़ाई की सही जानकारी नहीं थी। माहवारी के समय वे कपड़ा धो कर इस्तेमाल करती थी और ऐसा करना उन्हें सही लगता था। लेकिन जब से उन्होंने अब मेरी बारी कार्यक्रम में जब माहवारी के समय दी जाने वाली विस्तृत जानकारी सुनी कि कैसे इस दौरान साफ़-सफ़ाई नहीं रखने से या फिर कपड़े का सही तरीके से इस्तेमाल नहीं करने से शरीर में संक्रमित बीमारी हो सकती थी। अब मेरी बारी कार्यक्रम को सुनने के बाद पलक प्रिया ने यह ठाना कि माहवारी होने पर कपड़े का इस्तेमाल नहीं करेंगी और ऐसे समय में खुद पर साफ-सफ़ाई की ज्यादा ध्यान देंगी। किशोर-किशोरियों के स्वास्थ्य के लिए अब मेरी बारी कार्यक्रम को धन्यवाद दे रही है।

झारखण्ड राज्य के रांची जिला बीआईटी से संजना कुमारी अब मेरी बारी कार्यक्रम के माध्यम से बताती हैं कि उन्हें अब मेरी बारी कार्यक्रम बहुत अच्छा लगता है और किशोर -किशोरियों को बहुत फायदा पहुंच रहा है। वे बतातीं हैं कि वे पहले आयरन की गोली नहीं खाती थी क्योंकि उन्हें लगता था कि आयरन की गोली सिर्फ बड़े लोग ही खाते हैं और इससे किशोर -किशोरियों का कोई लेना देना नहीं होता है। माँ के कहने पर भी वे हरी साग सब्ज़ियाँ नहीं खाती थी लेकिन जब उन्होंने अब मेरी बारी कार्यक्रम सुना और उन्हें आयरन की गोली के महत्व की विस्तार से जानकारी दी गयी तब उन्हें पता चला कि आयरन की गोली शरीर में खून की कमी नहीं होने देता है और किशोर -किशोरियों के बढ़ते शरीर के लिए आयरन की गोली बहुत जरुरी होता है।इन सब जानकारियों के लिए वे अब मेरी बारी कार्यकर्म को धन्यवाद दे रही हैं।